अगर भारत पाकिस्तान के बीच हुआ युद्ध तो…. फिर हार जायगा पाकिस्तान

हालही में 14 फरवरी के पुलवामा घटना के बाद देश की सेना ने अपनी कार्रवाई शुरू की।  18 फरवरी की देर रात एक मुठभेड़ में पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड अब्दुल रशीद गाजी समेत दो आतंकवादी ढ़ेर हो गए। इसमें 40 सीआरपीएफ के जवानों के आलावा सेना के चार जवान भी शहीद हुए। इतनी मात्रा में देश के जवानों के शहादत से पूरा देश क्रोध की ज्वाला में जल उठा है। जगह-जगह लोग पाकिस्तान विरोधी नारे लगा रहे। लोग पाकिस्तान को नेस्तनाबूत करने की बात कह रहे। यदि पाकिस्तान और भारत के बीच ये युध्द होता है तो इसमें जीत किसकी होगी ये उसकी सैन्य शक्ति के ऊपर निर्भर करता है। आज हम इस लेख के माध्यम से बताएंगे की भारत की सैन्यशक्ति पाकिस्तान के मुकाबले कितनी है और इससे पहले कितनी बार भारत ने पाकिस्तान को युद्ध में धूल चटाया है….!

सन 1947 की रियासती लड़ाई

bbc.com

अंग्रेजों के गुलामी के बाद भारत और पाकिस्तान दोनों देशों के बीच चार बार (1947,1965, 1971 और 1999 में) युद्ध हो चुका है। चारों बार पाकिस्‍तान को पराजय का मुंह देखना पड़ा। 1947 का पहला युद्ध पूर्व जम्मू और कश्मीर रियासत की सीमाओं के भीतर भारतीय सेना अर्धसैनिक बल और पूर्व जम्मू और कश्मीर रियासत की सेनाओं और पाकिस्तानी सेना अर्धसैनिक बल और पाकिस्तान के उत्तर पश्चिम सीमांत राज्य के कबीलाई लड़ाको जो खुद को आजाद कश्मीर की सेना के नाम से पुकारते थे के बीच लड़ा गया था। साल के अंत तक कश्मीर में कब्जा करने के पकिस्तानी अभियान की हवा निकल गयी। केवल हिमालय के उपरी हिस्सो में आजाद कश्मीर नाम की पाकिस्तानी सेना को कुछ सफ़लतायें मिली पर आखिर में उन्हे वापस खदेड़ दिया गया।

सन 1965 का पाकिस्तान का ऑपरेशन जिब्रॉल्टर

gettyimages

यह युद्ध पाकिस्तान के ऑपरेशन जिब्रॉल्टर (जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ करने की रणनीति का कोडनाम था) के साथ शुरू हुआ, जिसके अनुसार पाकिस्तान की योजना जम्मू कश्मीर में सेना भेजकर वहां भारतीय शासन के विरुद्ध विद्रोह शुरू करने की थी। इसके जवाब में भारत ने भी पश्चिमी पाकिस्तान पर बड़े पैमाने पर सैन्य हमले शुरू कर दिए। सत्रह दिनों तक चले इस युद्ध में हज़ारों की संख्या में जनहानि हुई थी। आख़िरकार 1966 में भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों ने ताशकन्द समझौते पर हस्ताक्षर किये। सोवियत संघ और संयुक्त राज्य द्वारा राजनयिक हस्तक्षेप करने के बाद युद्धविराम घोषित किया गया।

सन 1971 के युद्ध के बाद बना एक और देश

Wikipedia

वर्ष 1971 का भारत-पाक युद्ध भारत एवं पाकिस्तान के बीच एक सैन्य संघर्ष था। इसका आरम्भ पूर्वी पाकिस्तान के स्वतंत्रता संग्राम के चलते 3 दिसंबर, 1971 से 16 दिसम्बर, 1971 को हुआ था एवं ढाका समर्पण के साथ समापन हुआ। युद्ध के बाद पूर्वी पाकिस्तान को एक नया राष्ट्र बांग्लादेश घोषित किया गया। साथ ही 93 हजार के करीब पाकिस्तानी सैनिकों को बंदी बनाया गया। जिनमें कुछ बंगाली सैनिक भी थे जो पाकिस्तान के वफ़ादार थे।

वर्ष 1999 का कारगिल युद्ध

navodayatimes.in

कारगिल नामक स्थान पर मई और जुलाई महीनों के बीच 1999 में भारत-पाकिस्तान के बीच युद्ध हुआ। जो कारगिल युद्ध के नाम से जाना जाता है। यह बहुत ठंडा इलाका था। जिसपर पाकिस्तान ने कब्ज़ा कर लिया था जब भारत की सेना को पता चला तो उन्होंने इसका मुहतोड़ जवाब दिया और पाकिस्तान पर विजय प्राप्त की। कारगिल युद्ध को ऑपरेशन विजय के नाम से भी जाना जाता है। इस लड़ाई में 30,000 भारतीय सैनिक और करीब 5,000 घुसपैठिए इस युद्ध में शामिल थे।

भारत की सैन्यशक्ति

Dailyhunt

मौजूदा समय में भारतीय सेना दुनिया की सबसे ताकतवर सेनाओं में से एक है। चर्चित ग्लोबल फायरपावर के वर्ष 2018 की रिपोर्ट में कुल 136 देशों की सूची में भारतीय सेना को चौथा स्थान मिला है। चीन उससे एक पायदान आगे यानी तीसरे स्थान पर है। अमेरिका अब भी शीर्ष पर है। दूसरा स्थान रूस के पास है। पाकिस्तान को इस सूची में 17वें स्थान पर जगह मिली है

भारतीय सेना में 13 लाख सैनिक हैं जबकि पाकिस्तानी सेना में 6 लाख 37 हजार सैनिक हैं। भारत में कुल 6464 युद्ध टैंक हैं जो दुनिया में चौथा स्थान है। पाकिस्तान में कुल 2924 युद्धक टैंक हैं। भारतीय सेना के बेड़े में सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस, अग्नि, पृथ्वी, आकाश और नाग जैसी आधुनिक मिसाइलें हैं, वहीं पाकिस्तान के पास गौरी, शाहीन, गजनवी, हत्फ और बाबर जैसी मिसाइलें हैं। अग्नि 5 भारत की सबसे आधुनिक और घातक मिसाइल है। इस इंटर कॉन्टिनेटल बैलेस्टिक मिसाइल की मारक क्षमता 5000 किमी है, जबकि बाबर की मारक क्षमता केवल 1000 किमी है। भारत के पास 1600 टैंक हैं जबकि पाकिस्तान के पास एक हजार टैंक हैं।

वायुसेना की बात की जाए तो भारत इसमें पाकिस्तान से कहीं आगे है। भारतीय वायुसेना विश्व की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना है। भारतीय वायुसेना के पास 1 लाख 27 हजार जवान हैं, जबकि पाकिस्तान के पास 65 हजार वायुसेना के सैनिक हैं।

विमानों की बात की जाए तो भारत के पास 1380 विमानों का बेड़ा है जिसमें सुखोई एम 30, मिग-29, मिग-27, मिग-21, मिराज और जगुआर जैसे आधुनिक विमान हैं। पाकिस्तान के पास चीनी एफ-7, अमेरिकी F-16 और मिराज शामिल हैं, लेकिन उसके पायलटों का तकनीकी ज्ञान कमजोर है जबकि भारतीय पायलटों का लोहा पूरा विश्व मानता है। भारत में कुल 2086 विमान हैं जो दुनिया में चौथे स्थान पर हैं। पाकिस्तान के पास 923 विमान है और ये दुनिया में 11 वें स्थान पर है।

Sputnik International

भारत के पास करीब 58350 जलसेना हैं जबकि पाकिस्तान के पास इनकी संख्या मात्र 25 हजार है। भारत के पास 27 पनडुब्बी जबकि पाकिस्तान के पास 10 पनडुब्बी हैं। भारत के पास 150 युद्धपोत जबकि पाकिस्तान के पास 75 युद्धपोत हैं। परमाणु हथियारों की अगर बात की जाए तो भारत के पास 110 से 130 परमाणु हथियार है जबकि पाकिस्तान के पास करीब 50 परमाणु हथियार हैं। पाकिस्तान शायद यह भूल चुका है कि भारत के पास विश्व की सबसे बड़ी तीसरी फौज है, जो चार बार पाकिस्तान को धूल चटा चुकी है। यदि भारत-पाक युद्ध फिर हुआ तो पाकिस्तान ज्यादा देर तक टिक नहीं पायेगा!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *