देश में नीरव मोदी, माल्या जैसे है हजारों जो बैंकों का पैसे नहीं चुकाना चाहते

बैंकों से हजारों करोड़ रुपयों कर्ज लेकर विदेश भागने वाले नीरव मोदी, माल्या ही नहीं बल्कि देश में ऐसे लूटेरों की भरमार है. जिन्होंने बैंकों से कर्ज तो ले लिया मगर समय पर वापस नहीं किया और न ही करना चाहते है. पिछले दिनों नीरव मोदी, माल्या जैसे भगौड़ों का मामला प्रकाश में आने के बाद अब हजारों विलफुल डिफॉल्‍टर्स (जानबूझकर कर्ज नहीं चुकाने वाले) खिलाफ FIR दर्ज की जा रही है. आईये जानते है क्या कहते है सरकार के आकड़ें ?

सक्षम होने के बाद भी नहीं चुकाते पैसा 

 

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक विलफुल डिफॉल्‍टर्स की संख्‍या चालू वित्‍त वर्ष में अप्रैल-दिसंबर 2017 तक 1.7 फीसदी बढ़कर 9063 हो गई. इन डिफॉल्‍टर्स ने क्षमता होने के बावजूद सरकारी बैंकों का करीब 1.10 लाख करोड़ रुपए का लोन नहीं चुकाया. यह जानकारी खुद सरकार ने दी है.

वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला ने लोकसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में बताया कि सरकारी बैंकों से लिए हुए कर्ज, जिसे विलफुल डिफॉल्टर्स नहीं चुका रहे हैं, वह कुल रकम 1,10,050 करोड़ रुपए है. उन्होंने बताया कि विलफुल डिफाल्टर्स की संख्या 9,063 करोड़ रुपए थी। चालू वित्त वर्ष के शुरुआती 9 महीनों के दौरान इसमें 1.66 फीसदी की बढ़ोत्‍तरी हुई है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) की गाइडलाइन के अनुसार, विलफुल डिफाल्टर्स के खिलाफ पैनल और क्रिमिनल एक्‍शन का प्रावधान है।

दर्ज कीं 2108 एफआईआर

शुक्‍ला ने कहा कि 31 दिसंबर 2017 तक सरकारी बैंकों ने विलफुल डिफॉल्‍टर्स के खिलाफ 2,108 एफआईआर दर्ज की। इनमें 8,462 मुकदमे रिकवरी के लिए फाइल किए और उनके खिलाफ कानून कार्रवाई शुरू कर दी गई है। यह कार्यवाही 6,962 विलफुल डिफाल्टर्स के मामलों में की गई।शुक्ला ने कहा कि मार्केट रेग्‍युलेटर सेबी ने विलफुल डिफॉल्टर्स के लिए कुछ नियम भी जारी किए हैं क्योंकि प्रमोटर्स और डायरेक्टर्स फंड जुटाने के लिए कैपिटल मार्केट तक अपनी पहुंच बना रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *