भारत के ऐसे शख्स जो संभाल रहे है दुनिया की नामी कपनियों की कमान

हाल ही में माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर इंक ने भारत के पराग अग्रवाल को चीफ टेक्नोलॉजी अफसर यानी सीटीओ अप्वाइंट किया है. पराग ने 2011 में बतौर इंजीनियर ट्विटर ज्वॉइन किया था. इस मुकाम तक पहुंचने वाले पराग कोई पहले भारतीय नहीं हैं. दुनिया कई बड़ी आईटी और टेक कंपनियां भारतीय ही संभाल रहे हैं. गूगल और माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ से लेकर टेक कंपनी नोकिया तक के सीईओ भारतीय हैं. आइए जानते हैं दुनिया की टॉप कंपनीज में टॉप पोजीशन पर बैठे भारतीयों के बारे में…

गूगल के सीईओ  सुंदर पिचाई 

तमिलनाडु के चेन्नई में पैदा हुए सुंदर पिचाई ने आईआईटी खड़गपुर से बीटेक, स्टैनफोर्ड से एमएस और व्हॉर्टन से एमबीए किया है. वो अगस्त 2015 से गूगल के सीईओ हैं. वर्ष 2016 फिस्कल ईयर में फाइल किए गए प्रॉक्सी स्टेटमेंट के मुताबिक, पिचाई की सैलरी 1298 करोड़ रु. सालाना है.

माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्य नाडेला

हैदराबाद में जन्मे सत्य नाडेला ने मनीपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से बीई किया था. इसके बाद यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन-मिलवॉकी से एमएस करने के बाद शिकागो यूनिवर्सिटी से एमबीए किया. फरवरी 2014 से वो माइक्रोसॉफ्ट में सीईओ हैं. इससे पहले वो माइक्रोसॉफ्ट क्लाउड में वाइस प्रेसिडेंट थे. 2017 फिस्कल ईयर में फाइल किए गए प्रॉक्सी स्टेटमेंट के मुताबिक, नाडेला की सैलरी 130 करोड़ रुपए सालाना है.

 

अडोब सीईओ शांतनु नारायण

हैदराबाद में पैदा हुए शांतनु नारायण ने वर्ल्डवाइड प्रोडक्ट रिसर्च में सीनियर वाइस प्रेसिडेंट के तौर पर अडोब 1998 में ज्वॉइन की थी. इसके बाद 2005 में वो सीओओ बने और नवंबर 2017 में कंपनी के सीईओ बन गए. फिस्कल ईयर 2016 के प्रॉक्सी स्टेटमेंट के मुताबिक, शांतनु की सैलरी 130 करोड़ रुपए सालाना है.

नेटऐप के सीईओ और प्रेसिडेंटजॉर्ज कुरियन

केरल के कोट्टायम में पैदा हुए जॉर्ज कुरियन आईआईटी मद्रास से इंजीनियरिंग कर रहे थे, लेकिन 6 महीने बाद ही उन्होंने प्रिंसटन यूनिवर्सिटी ज्वॉइन कर ली. इसके बाद स्टैनफोर्ड से एमबीए की डिग्री ली. जून 2015 में वो नेटऐप के सीईओ बने. फिस्कल ईयर 2017 के प्रॉक्सी स्टेटमेंट के मुताबिक, कुरियन की सैलरी 58 करोड़ रुपए सालाना है.

कॉग्निजेंट के सीईओ फ्रांसिस्को डिसूजा

भारतवंशी डिसूजा का जन्म केन्या में हुआ था, तब उनके पिता वहां पर इंडियन डिप्लोमैट थे. मकाऊ की ईस्ट एशिया यूनिवर्सिटी से उन्होंने बीबीए और फिर पीट्सबर्ग की कार्नेज मेलन यूनिवर्सिटी से एमबीए किया. जनवरी 2007 में वो अमेरिका की तकनीक और परामर्श सेवाएं प्रदान करने वाली कॉग्निजेंट टेक्नॉलजी सोल्यूशन्स के सॉफ्टवेयर सर्विस सेक्टर में सीईओ बने. फिस्कल ईयर 2016 के प्रॉक्सी स्टेटमेंट के मुताबिक, डिसूजा की सैलरी 53 करोड़ रुपए सालाना है.

हरमन इंटरनेशनल के प्रेसिडेंट और सीईओ दिनेश पालीवाल

यूपी के आगरा में पैदा हुए दिनेश पालीवाल ने आईआईटी रुड़की से बीई किया था. इसके बाद मियामी यूनिवर्सिटी से एमएस और एमबीए किया. हरमन इंटरनेशनल ज्वॉइन करने से पहले करीब 22 साल वो एबीबी ग्रुप में रहे. जुलाई 2007 से वो हरमन इंटरनेशनल में सीईओ हैं. फिस्कल ईयर 2016 के प्रॉक्सी स्टेटमेंट में दी जारी जानकारी के मुताबिक, दिनेश की सैलरी 85 करोड़ रुपए सालाना है.

कन्ड्यूएंट इंक के सीईओ अशोक वेमूरी

इन्फोसिस में काम कर चुके अशोक वेमूरी ने जून 2016 में जीरोक्स (XEROX) कंपनी सीईओ के तौर पर ज्वाइन की. बाद में ये कंपनी दो हिस्सों में बंट गई. कन्ड्यूएंट इंक इसी का एक हिस्सा है, अशोक जिसमें सीईओ हैं. फिस्कल ईयर 2016 के प्रॉक्सी स्टेटमेंट के मुताबिक, अशोक की सैलरी 35 करोड़ रुपए सालाना है.

माइक्रॉन टेक्नोलॉजी इंक के सीईओ संजय मेहरोत्रा

संजय ने बर्कले की कैफिफोर्निया यूनिवर्सिटी से बैचलर और मास्टर की डिग्री ली है. इसके बाद स्टैनफोर्ड से एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम भी किया. उन्होंने मई 2017 में सीईओ के तौर पर माइक्रॉन टेक्नोलॉजी इंक ज्वॉइन की. फिस्कल ईयर 2015 के जारी हुए प्रॉक्सी स्टेटमेंट के मुताबिक, संजय की सैलरी उस साल तक 69 करोड़ रुपए थी. हालांकि, मौजूदा सैलरी की जानकारी नहीं है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *