जानिए आखिर फिल्म पैडमैन पाकिस्तान में क्यूं कर दी गयी बैन

वास्तविक जीवन पर आधारित फिल्म पैडमैन पाकिस्तान में बैन कर दी गयी है. अगर इसकी आप वजह जानेंगे तो सोच में पड़ जायेंगे. दरअसल यहां के फेडरल सेंसर बोर्ड यानी FCB के मेंबर ईशाक अहमद के मुताबिक डिस्ट्रीब्यूटर्स को इस तरह की मूवी इम्पोर्ट करने की इजाजत है. ये फिल्म पाकिस्तान के परंपरा और संस्कृति के खिलाफ है.  जबकि फिल्म में अक्षय कुमार और राधिका आप्टे की जोड़ी वाली इस फिल्म में महिलाओं के रजस्वला (पीरियड्स) से रिलेटेड कई तरह की बातें बताई गई हैं. इस बारे में जो गलत बातें प्रचलित हैं, उन्हें दूर करने की कोशिश की गई है.

फिल्म की कहानी

फिल्म ‘पैडमैन’ तमिलनाडु के पद्म अवॉर्डी अरुणाचलम मुरुगनाथम की बायोपिक पर आधारित है. फिल्म में महिलाओं के लिए सेनेटरी नैपकिन बनाने की मशीन का अविष्कार कर ग्रामीण इलाकों में जागरूकता फैलाने के मुरुगनाथम के संघर्ष को दिखाया गया है. इस फिल्म को आर. बाल्कि ने डायरेक्ट किया है. अक्षय और राधिका के अलावा फिल्म में सोनम कपूर भी हैं. जिसमे अक्षय की पत्नी का किरदार राधिका आप्टे निभा रही हैं.

यह भी देखे : जानिए ! असली पैडमैन के बारे में जो खुद पहनता था पैड

क्या कहते है पाकिस्तान के फिल्म निर्माता 

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान के जानेमाने फिल्म मेकर सैयद नूर का रुख नरम दिखा. उन्होंने कहा किसी भी फैसले से पहले इस बारे में लोकल फिल्म डिस्ट्रीब्यूटर्स से बात की जानी चाहिए थी. नूर ने कहा- सिर्फ पैडमैन ही क्यों? मुझे लगता है कि पद्मावत को भी पाकिस्तान में बैन किया जाना चाहिए था. आखिर इसमें भी तो मुस्लिमों को गलत तरीके से पेश किया गया है.

2 thoughts on “जानिए आखिर फिल्म पैडमैन पाकिस्तान में क्यूं कर दी गयी बैन

  • February 12, 2018 at 1:20 pm
    Permalink

    महिलाओं को पीरियड्स के दिनों में कुछ परहेज़ बताए गए हैं इसके पीछे वैज्ञानिक-मनोवैज्ञानिक कारण हैं। मूर्ख लोग ज़बरदस्ती की ज़िद करते हैं। क्या इन लोगों को पता है इन दिनों में स्त्री के शरीर का तापमान भी स्थिर नहीं रहता। मन भी नीचे के केंद्रों में रहता है। अब ऐसे में यदि वह मंदिर जाती है तो उसका मन एकाग्र नहीं होता जिससे विचारों में विक्षोभ उत्पन्न होता है। इस विक्षोभ सेअनेक प्रकार के शारीरिक-मानसिक उपद्रव जन्म लेते हैं। अंततोगत्वा दुष्परिणाम तो स्त्री को ही भुगतने पड़ते हैं।
    अड़ियल औरतों से एक सवाल … हर बात में मर्दों की बराबरी करने की ज़रूरत क्या है ? अपनी महिमा कब जानोगी बहना ?

    Reply
  • February 12, 2018 at 1:28 pm
    Permalink

    बड़े से बड़ा डॉक्टर भी बीमार आदमी को खिचड़ी खाने को कहता है और नहाने को मना करता है तो ये अंधविश्वास है? अरे पेटदर्द में मुर्गा खाओ … बुखार में आइसक्रीम खाओ … जॉन्डिस में दावत उड़ाओ … सिरोसिस में दारू चढ़ाओ … हद है मूर्खता की ! ये फ़िल्मवाले क्यों समाज के दुश्मन बन हुए हैं ? जाँच होनी चाहिए।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *