एक ऐसा देश जहां मरे हुए इंसान के नाम से चलती है तानाशाही… यहां पढ़ना, बोलना, टीवी देखना है अपराध


हमारे अन्य लेख पढने के लिये फॉलो करे : फेसबुक


===
बाकि देशों में रहने वाले हर एक व्यक्ति को रहने, बोलने, अपने तरीके से जीने की स्वतंत्रता है। हर कोई अपनी जिंदगी जिस तरीके से जीना चाहता है जी सकता है।

मगर एक ऐसा देश भी है जहां रहने वाले लोग न तो अपने मन से बाल कटवा सकते हैं और न ही टीवी देख सकते।

और तो और बाहर की दुनिया के बारे में जानना भी अपराध है। यहां अगर कोई पोर्न फिल्म भी देख ले तो उसे मौत की सजा भी सुनाई जा सकती है। आइए जानते ऐसे ही एक देश उत्तर कोरिया के बारे में जहां कुछ ऐसे की कायदे कानून है…!

Daily Star

उत्तर कोरिया में नहीं है कोई धर्म-:

पूर्वी एशिया में कोरिया प्रायद्वीप के उत्तर में बसा हुआ देश है। कई अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के अनुसार उत्तर कोरिया में मानवाधिकार उल्लंघन के मामले सबसे ज्यादा होते है।

सत्तारूढ़ परिवार के सदस्य के रुप में यहां का शासन सालों से चला आ रहा है

azabgazab.com

कहा जाता है यहां का शासक इतना निर्दयी है कि यहां के लोग इसे पैसा चूसने वाला वैम्पायर कहते है।

उत्तर कोरिया अपने आप को एक नास्तिक देश मानता है यहाँ पर कोई आधिकारिक धर्म भी नहीं है साथ ही सार्वजनिक रूप से धर्म को एक हासिए पे ही रखा जाता हैं।

यहां के शासक को भगवान मानते है लोग-:

वेबदुनिया

उत्तर कोरिया दुनिया का एक मात्र ऐसा देश है, जहां का शासन मृत व्यक्ति के नाम पर चलाया जा रहा है।

यहां का शासन किम सुंग के नाम पर चलाया जाता है।

यह एक मात्र ऐसा देश है, जहां इस बात के आदेश जारी किए गए हैं कि सभी मकानों को भूरे रंग में रंगा जाए।

इन मकानों पर नेताओं के फोटो लगाने का प्रचलन है। ऐसा नहीं होने की स्थिति में सजा का प्रावधान है।

इस देश में प्रत्येक पांच वर्ष बाद चुनाव होते हैं, लेकिन उम्मीदवार सिर्फ एक होता है किम जोंग उन।

Zee News

उत्तर कोरिया के तानाशाह दिवंगत किम जोंग द्वितीय ने अपने जीवनकाल में अपनी बॉयोग्राफी जारी की थी, जिसमें कुछ अजब-गजब बातें लिखी हुईं थीं।

इसमें जानकारी देते हुए लिखा गया था कि जब किम जोंग द्वितीय का जन्म हुआ था, तब आकाश में दो इन्द्रधनुष बने थे।

यही नहीं, उनके जन्म की वजह से एक तारे का भी जन्म हुआ था। इस बॉयोग्राफी के जरिए किम जोंग द्वितीय ने खुद के भगवान होने का दावा किया था।

यही नहीं, किम का कहना था कि उनके पास मौसम पर नियंत्रण की अद्भुत क्षमता है। उसी प्रकार वर्तमान उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन को भगवान की तरह माना जाता है।

किसी भी अपराध की सजा तीन पीढ़ियों को भुगतना पड़ता है-:

उत्तर कोरिया के अंदर जाकर वहां के आम लोगों से बात करना लगभग नामुमकिन है। अगर कोई बाहरी व्यक्ति उत्तर कोरिया में जाता है तो पुलिस उस पर सख़्त पहरा रखती है। वहां के लोगों को भी बाहरी दुनिया से कोई संपर्क करने नहीं दिया जाता।

उत्तर कोरिया के लोगों को हमेशा से यही सिखाया जाता है कि किम जोंग उन सब कुछ जानते हैं और अगर उन्हें किम के ख़िलाफ़ विचार रखने वाले किसी व्यक्ति के बारे में पता चले तो वो प्रशासन को इसकी जानकारी दें, फिर चाहे वो शख़्स उनके घर का ही क्यों ना हो।

इस देश में अगर कोई सरकार के खिलाफ या किम के खिलाफ कोई कुछ बोलता है तो उन्हें कड़ी सज़ा दी जा सकती है या उन्हें फांसी पर भी लटकाया जा सकता है।

जेल की सज़ा सिर्फ उन्हें ही नहीं बल्कि उनकी तीन पीढ़ियों को भुगतनी पड़ती

सजा के नाम पर कर दिया जाता है रेप-:

उत्तर कोरिया के कुछ लोग अपनी पहचान गुप्त रखने के शर्त पर कई बताते है कि रोज़ाना की ज़िंदगी में बेपनाह मुश्किलें झेलते हैं।

कई बार लोगों को गलत चीज़ें बोलने के आरोप में पकड़ लिया जाता है। लोग अचानक गायब हो जाते हैं।

जिन्हे उत्तर कोरिया की जेल शिविर में भेज दिया जाता है।

यहां उन लोगों को बहुत टॉर्चर किया जाता है, उन्हें खुद की कब्रें खोदने पर मजबूर किया जाता है। इतना ही नहीं, सज़ा के तौर पर यहां लोगों का रेप कर दिया जाता है।

एमनेस्टी इंटरनेशनल के मुताबिक एक शिविर में 20,000 कैदियों को रखा जा सकता है। बावजूद इसके शिविरों में मिलने वाली डरावनी सज़ा की वजह से ही लोग चुप रहते हैं।

बाहर से लाई हुई फिल्म देखने पर 10 साल सज़ा-:

BBC.com

अगर उत्तर कोरिया में कोई तस्करी करके विदेश से लाई गई फ़िल्में और टीवी कार्यक्रम देखता पकड़ा जाता है तो उसे हार्ड लेबर कैंप में 10 साल की कड़ी सज़ा भुगतनी पड़ती है। लेकिन उत्तर कोरिया के लोग भी चीन के रास्ते यूएसबी स्टीक और डीवीडी में विदेशी फिल्में और कार्यक्रम ले आते हैं।

AOL.com

अपनी मनमर्जी से नहीं देख सकता कोई टीवी-:

उत्तर कोरिया के प्रत्येक घर में सरकार नियंत्रित रेडियो लगाए गए हैं। यहां के नागरिकों को यह अनुमति नहीं है कि वे इस रेडियो को बन्द कर सकें।

उत्तर कोरिया में सिर्फ 3 टीवी चैनल्स हैं। यहां की सरकार नहीं चाहती कि लोगों को बाहरी दुनिया के बारे में पता चले।

उत्तर कोरिया पूरी दुनिया से कटा हुआ है। यहां के अखबार, मैगजीन और समाचार चैनल बाहरी दुनिया के बारे में जानकारी नहीं देते। यहां जनता को सिर्फ वही समाचार दिखाए जाते हैं, जो सरकार चाहती है।

उत्तर कोरिया के कुछ लोग वहां की ज़िंदगी से तंग आकर भाग जाते हैं। वो अपनी जान जोख़िम में डालकर चीन के रास्ते दक्षिण कोरिया निकल जाते हैं। बीतें सालों में लोगों का भागना कम हुआ है।

इसकी वजह उत्तर कोरिया की सीमा पर सुरक्षाबलों की चौकसी में बढ़ोतरी और चीन के साथ विवादित समझौता है।

इस समझौते के तहत अगर चीन में उत्तर कोरिया को कोई नागरिक पाया जाता है तो उसे स्वदेश प्रत्यर्पित कर दिया जाएगा।

कई अपराधों के लिए कोई क्षमादान नहीं -:

BBC

यहां गरीबों की फोटो लेने पर सख्त मनाही है। दरअसल, उत्तर कोरिया के तानाशाहों का मानना है कि यहां के गरीबों की फोटो दुनिया के लोगों के सामने आने पर देश की इमेज खराब होगी।

यहां बाइबिल रखना या फिर दक्षिण कोरियाई फिल्म या पोर्न देखने पर मौत की सजा मिल सकती है।

इन अपराधों के लिए कोई क्षमादान नहीं है।

khabarnwi.com

खुशियां मनाने पर है प्रतिबंध-:

उत्तर कोरिया में साल में दो दिन 8 जुलाई और 17 दिसंबर को लोग खुशियां नहीं मना सकते। यहां तक कि इस दिन लोग जन्मदिन भी नहीं मनाते।

इसकी वजह यह है कि किम सुंग और किम जोंग द्वितीय की मौत क्रमशः इन तारीखों को हुई थी।

BBC

बाहरी लोगों के मोबाइल हो जाते है जब्त-:

उत्तर कोरिया में पर्यटक मोबाइल फोन लेकर नहीं घूम सकते। उनसे मोबाइल फोन एयरपोर्ट पर ही ले लिया जाता है और जब वे अपने देश वापस जाते हैं, तब उन्हें इसे वापस किया जाता है।

केवल यही नहीं, पर्यटक स्थानीय लोगों से बात नहीं कर सकते। वे हमेशा गाइ़ड की निगरानी में होते हैं और खुद से कहीं घूम नहीं सकते।

कई सुख सुविधा और सेवाओं से वंचित-:

उत्तर कोरिया में कार रखने पर पाबंदी है। यहां सिर्फ सेना के अधिकारी या सरकारी ऑफिसर ही कार रख सकते हैं। यहां आम जनता के लिए इन्टरनेट भी नहीं है। इन्टरनेट की सुविधा यहां सिर्फ चन्द लोगों के लिए ही उपलब्ध है।

यहां सरकार तय करती है यहां की जनता क्या पहनेगी। उदाहरण के लिए इस देश में जीन्स पहनने पर पाबन्दी है। यहां के लोगों को सरकारी मान्यता प्राप्त हेयरस्टाइल अपनाना होता है।

सरकार के मुताबिक तानाशाह किम जोंग उन का हेयरस्टाइल सबसे बेहतर है। यहां अपने मन से कोई बाल नहीं कटवा सकता।

इस देश के इतिहास की किताबों में सिर्फ किम जोंग प्रथम और किम जोंग द्वितीय की वीर गाथाएं पढ़ाई जाती हैं। दुनिया के बाकी देशों के इतिहास से उनको कोई मतलब नहीं है।

BBC

पोर्न फिल्में, विदेशी फिल्में देखने पर होती है सख्त सजा। बाहरी लोगों को यहाँ किसी भी नागरिक से बात करने की इजाजत नहीं।

ना यहां इंटरनेट है और नाही कोई बाहर के देशों में फोन से कर सकता है बातचीत

स्रोत-बीबीसी और hindi.topyaps.com

===

हमारे अन्य लेख पढ़ने के लिए क्लिक करें: KuchhNaya.com |  कॉपीराइट © KuchhNaya.com | सभी अधिकार सुरक्षित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *