अंतरिक्ष में बनेगा लग्जरी होटल किराया होगा अरबों रुपये !

जहां एक तरफ अमेरिका इंसानों को चाँद पर ले जाने की योजना बना रहा वही रूस जैसे देश पर्यटन को अंतरिक्ष में स्थापित करने की योजना बना रहा है. जी हाँ सुनने में थोड़ा अजीब जरुर लग रहा होगा मगर यह सत्य है. यूरोपीय देश रुस जल्द ही अंतरिक्ष में एक ऐसे लग्जरी होटल निर्माण करने जा रहा है. जो आगामी २०२२ तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है. बताया जा रहा है अंतरिक्ष में बनने वाले होटल में 1 से 2 सप्‍ताह तक रुकने के लिए यात्री को 4 करोड़ डॉलर यानी अरबों रुपये खर्च करना होगा.

पांच सालों में होगा निर्माण कार्य

अंतरिक्ष टूरिज्‍म कोई नया विचार नहीं है. एक तरफ जहां अमेरिका की निजी कंपनियां लोगों को अंतरिक्ष तक ले जाने की योजना को लेकर तैयारियों में जुटी है, वहीं रूस भी इसमें पीछे नहीं है. अंतरिक्ष पर्यटन को आकर्षित करने के लिहाज से वह अंतरिक्ष में आलीशान होटल की योजना बना रहा है और हो सकता है कि अगले 5 सालों में यह साकार हो जाए.

अत्याधुनिक सुविधों से होगा लैस होटल

रूस की अंतरिक्ष एजेंसी रोसकॉसमस की योजना 2022 तक अंतर्राष्‍ट्रीय अंतरिक्ष स्‍टेशन (ISS) में आलीशान होटल बनाने की है, जिसमें सोने के लिए चार कमरे होंगे. हर कमरे में 9 इंच की खिड़की होगी और मेडिकल व हाइजीन स्टेशंस भी होंगे. साथ ही 16 इंच की खिड़की वाला लॉन्ज एरिया भी होगा. इस आलीशान होटल में पर्सनल हाइजीन सुविधाओं के अतिरिक्‍त एक्‍सरसाइज के उपकरण और वाई-फाई की सुविधाएं भी होंगी.

विज्ञान व प्रौद्योगिकी क्षेत्र की अग्रणी पत्रिका ‘पॉपुलर मैकेनिक्‍स’ के मुताबिक, कोई भी व्‍यक्ति अंतरिक्ष में बनने वाले इस आलीशान होटल में कुछ वक्‍त बिता सकता है, लेकिन इसके लिए उसे अपनी जेब ढ़ीली करनी पड़ेगी. वहां 1-2 सप्‍ताह तक रुकने के लिए यात्रियों को 4 करोड़ डॉलर खर्च करना होगा. लेकिन यदि वह अतिरिक्‍त 2 करोड़ डॉलर का भुगतान करता है तो उसे महीने भर वहां रहने दिया जा सकता है और अंतरिक्ष में चहलकदमी का मौका भी मिलेगा.

RKK एनर्जिया को मिली होटल बनाने जिम्मेदारी

रूसी स्पेस कॉन्ट्रैक्टर RKK एनर्जिया को इस होटल के निर्माण की रणनीति तैयार करने की जिम्मेदारी दी गई है. इसको बनाने में करीब 27.9 करोड़ डॉलर से लेकर 44.6 करोड़ डॉलर तक का खर्च आ सकता है. कंपनी का कहना है कि यदि हर साल करीब 6 पैसेंजर्स एक सप्‍ताह का समय अंतरिक्ष स्‍टेशन में बनने वाले होटल में बिताएंगे, तब अगले 7 सालों में इसकी लागत वसूली जा सकेगी.

साभार: AP

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *