जानिए क्या है आयुष्मान भारत और इससे आपको क्या होगा लाभ…

देश के ग्रामीण इलाकों में अक्सर देखा जाता है पैसों की कमी के वजह से कई निर्दयी अस्पतालों में गरीब परिवार के मरीज इलाज के दौरान मर जाते है. जबकि ऐसे कई लोग गंभीर बीमारी से जूझते हुए भी इलाज नहीं करा पाते जिसकी वजह पैसों का आभाव. मगर अब ऐसा नहीं होगा. जी हाँ भारत सरकार ने देशवाशियों के सभी वर्ग के लोगों को हैल्थ इन्श्योरेंस उपलब्ध कराने के उद्देश्य से नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन मिशन को मंजूरी दे दी. जिसे ‘आयुष्मान भारत’ नाम दिया गया है. पांच लाख का होगा स्वास्थ्य बीमा. आइए आपको बताते है क्या है आयुष्मान भारत  की खास बातें..

आयुष्मान भारत योजना या मोदीकेयर 

आयुष्मान भारत योजना या मोदीकेयर, भारत सरकार योजना हैं, जिसे १ अप्रैल, २०१८ को पूरे भारत मे लागू किया जायेगा. केंद्र सरकार की कैबिनेट ने आयुष्मान भारत हेल्थ स्कीम को 21 मार्च को पास कर दिया. २०१८ के बजट सत्र में वित्त मंत्री अरूण जेटली ने इस योजना की घोषणा की. इस योजना का उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर लोगों (बीपीएल धारक) को स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराना है. इसके अन्तर्गत आने वाले प्रत्येक परिवार को ५ लाख तक का कैशरहित स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया जायेगा. १० करोड़ बीपीएल धारक इस योजना प्रत्यक्ष लाभ उठा सकेगें. इसके अलावा बाकी बची आबादी को भी इस योजना के अन्तर्गत लाने की योजना है.

आयुष्मान भारत योजना के तहत इलाज के लिए 5 लाख रुपये तक का बीमा कवर साल में मिलेगा. अब तक राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत साल में 30,000 रुपये का बीमा कवर ही मिलता था. इस लिहाज से यह बड़ा इजाफा है. फायदा: इससे अब कोई वर्ग का व्यक्ति 5 लाख रुपए तक इलाज फ्री में करा सकता है.

आयुष्मान भारत’ के तहत दो स्कीमें

1. नैशनल हेल्थ प्रॉटेक्शन स्कीम के तहत देश के 10 करोड़ गरीब परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये तक का हेल्थ इंश्योरेंस कवर मुहैया कराना. अमेरिका में ओबामा केयर की तर्ज पर वित्त मंत्री जेटली ने नैशनल हेल्थ प्रॉटेक्शन स्कीम का ऐलान करते हुए इसे दुनिया का सबसे बड़ा हेल्थ केयर प्रोग्राम करार दिया. जेटली ने कहा कि इससे कम-से-कम 50 करोड़ लोगों को फायदा मिलेगा. स्कीम पर अमल के लिए पर्याप्त रकम मुहैया कराई जाएगी. राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत गरीब परिवारों को महज 30 हजार रुपये सालाना की कवरेज हासिल है.

2. हेल्थ और वेलनेस सेंटर
देशभर में डेढ़ लाख से ज्यादा हेल्थ और वेलनेस सेंटर खोलना, जो जरूरी दवाएं और जांच सेवाएं फ्री में मुहैया कराएंगे. इन सेंटरों में गैर-संक्रामक बीमारियों और जच्चा-बच्चा की देखभाल भी होगी. इतना ही नहीं, इन सेंटरों में इलाज के साथ-साथ जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों, मसलन हाई ब्लड प्रेशर, डाइबिटीज और टेंशन पर नियंत्रण के लिए विशेष प्रशिक्षण भी दिया जाएगा. सरकार ने इस मद में 1200 करोड़ रुपये का इंतजाम किया है. सरकार इन केंद्रों को चलाने के लिए कॉर्पोरेट का भी सहयोग चाहती है.

केंद्र सरकार की कैबिनेट ने आयुष्मान भारत हेल्थ स्कीम को पास कर दिया है. इस योजना से देश के 10 करोड़ परिवारों के लिए 5 लाख रुपये के बीमा कवर की योजना का ऐलान किया गया है. आयुष्मान भारत योजना के तहत इलाज के लिए 5 लाख रुपये तक का बीमा कवर साल में मिलेगा. अब तक राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत साल में 30,000 रुपये का बीमा कवर ही मिलता था. इस लिहाज से यह बड़ा इजाफा है. फायदा: इससे अब कोई वर्ग का व्यक्ति 5 लाख रुपए तक इलाज फ्री में करा सकता है.

राइजिंग इंडिया समिट’ में प्रधानमंत्री ने दिए थे संकेत

‘राइजिंग इंडिया समिट’ के मंच पर 16 मार्च को पीएम नरेंद्र मोदी ने देश में हेल्थकेयर सिस्टम में सुधार को लेकर सरकार की कोशिशों के बारे में बताया था. पीएम मोदी ने यहां हेल्थकेयर सिस्टम को लेकर No Silios, Only Solutions का विजन पेश किया. उन्होंने कहा कि देश में हेल्थ केयर के लिए सिर्फ हेल्थ मिनिस्ट्री हो और वो अकेली ही काम करती रहे तो इसे साइलोस बनते हैं, सोल्यूशन नहीं मिलते. उन्होंने कहा, ‘हमारा प्रयास रहा है- नो साइलोस, ओनली सोल्यूशन.’ उन्होंने कहा कि हमने जनता जनार्दन से जुड़े इस अभियान में, हेल्थ मिनिस्ट्री से जुड़े अन्य मंत्रालय को जोड़ कर निर्धारित लक्ष्य तक पहुंचने के लिए प्रयास किया है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *