बैंक के लुटेरों से आपका पैसा डूबेगा नहीं, चाहे वो विजय माल्या हो या नीरव मोदी….!

इन दिनों बैंक घोटालों के मामले खूब चर्चा में है. भारतीय स्टेट बैंक से 900 करोड़ रुपये लोन लेकर देश छोड़कर भाग चुके शराब व्यापारी विजय माल्या के बाद हालही में पंजाब नेशनल बैंक का घोटाला सामने आया है. जिसका जिम्मेदार हीरा व्यापारी नीरव मोदी को ठहराया गया जो फिलहाल देश छोड़कर जा चूका है.

इस घटनाओं के बाद अब आयेदिन बैंक से जुड़े घोटाले सामने आ रहे है. जिसे लेकर लोगों में चिंता बनी है कि यदि घोटाले बाज बैंकों में किसी खाता धारक का पैसा है तो डूब न जाए. मगर आप घबराईये नहीं ये जानकारी सुकून देने वाली है.

सुरक्षित है बैंकों में पैसा 

ऑल इंडिया बैंक एम्प्लाई एसोसिएशन (AIBEA) के प्रेसिडेंट जेपी शर्मा के मुताबिक भारत में सरकारी और प्राइवेट दोनों तरह के बैंक हैं. देश के करीब 63 लोगों ने अपना पैसा सार्वजनिक या सरकारी बैंकों (PSU बैंकों) में जमा किया है. जबकि18 प्रतिशत लोगों ने ही प्राइवेट बैंक में अपना पैसा जमा किया है.

जेपी शर्मा के अनुसार अब तक ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया है जिसमें कोई बैंक दिवालिया हुई हो. यदि किसी का अकाउंट सरकारी बैंक में है तब उसका पैसा पूरी तरह सुरक्षित है. उस पैसे की पूरी जिम्मेदारी सरकार की होती है.

आगे जेपी शर्मा ने बताया कि अब तक कोई प्राइवेट बैंक भी नहीं डूबी है, ऐसे में पैसा इन बैंक में भी सुरक्षित रहता है. फिर भी यदि ऐसी स्थिति आ जाती है तब इसके लिए बैंक को शॉर्ट नोटिस पर रिकवरी का टाइम दिया जाता है.

इसके साथ, नए नियमों के चलते बैंक को अपने पास इतना पैसा रिजर्व रखना होता है कि वो किसी विपरीत स्थिति में कस्टमर का पैसा लौटा सके. इसके अलावा, यदि बैंक कि स्थिति नाजुक होती है तब भारतीय रिजर्व बैंक उसे सपोर्ट करती है.

आपके पैसे का होता है इंश्योरेंस

आपके पैसे की सेफ्टी के लिए बैंक उसका इंश्योरेंस भी करती हैं. इसके लिए डिपोजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉर्पोरेशन (DICGC) इंश्योरेंस कवर देता है. इसके लिए बैंक को ये इंश्योरेंस लेकर प्रीमियम भरना होता है. भारत की लगभग सभी सरकारी और प्राइवेट बैंकों ने ये इंश्योरेंस लिया है.

हालांकि, DICGC किसी भी कस्टमर के सिर्फ 1 लाख रुपए को ही इंश्योर्ड करती है. यानी बैंक में आपके एक लाख रुपए से ऊपर जितना भी पैसा है उसकी जिम्मेदारी इसकी नहीं होती. बता दें कि DICGC को 1961 में बनाया गया था, जिसके बाद से अब तक कभी किसी बैंक के डूबने या दिवालिया होने की खबर नहीं आई.

आपको बता दें कि हालही में हिरा व्यापारी नीरव मोदी पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के 11,300 करोड़ रुपये के घोटाले का आरोपी है. इससे पहले शराब व्यापारी विजय माल्या भी नौ सौ करोड़ रुपये का भारतीय स्टेट बैंक से लेकर विदेश भाग गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *