यूपी का एक गांव ऐसा जहां सिर्फ महिलाएं खेलती है होली

होली मनाने की परंपरा सदियों पुरानी है या यूँ कह ले प्रभु राम-कृष्ण के काल से है. इस बार एक मार्च महीने के पहले सप्ताह में होली है. होली रंगों का त्यौहार है और इसे हमारे देश में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है.

हर राज्य और हर शहर में रंगों के इस त्यौहार को बड़ा ही महत्व दिया है. आज हम आपको ऐसा कुछ बताने जा रहे हैं जिस पर आपको भी यकीन नहीं होगा. जी हाना, आज हम आपको ऐसे गांव के बारे में बताने जा रहे हैं जहाँ सभी लोग होली नहीं खेलते, बल्कि सिर्फ महिलाएं ही होली खेलती हैं.

जी हाँ, हम बात कर रहे हैं उत्तर प्रदेश के हमीरपुर के गाँव कुन्डरा में कई सालों से अनोखी परंपरा चली आ रही है. जिसके अंतर्गत इस गाँव के किसी भी मर्द को यहाँ तक की बच्चो को भी होली खेलने की इज़ाज़त नहीं है.

यहाँ केवल महिला ही आपस में मिल कर होली का त्यौहार धूम-धाम से मनाती है. हालांकि की कोई परंपरा नहीं है. दरअसल इस गांव में एक हादसे के बाद महिलाओं को ही बस होली खेलने का नियम बनाया गया. हालांकि इससे पहले इस गांव में सभी महिलाये, पुरुष, बच्चे सभी मिल कर होली का त्यौहार मनाते थे.

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक कई साल पहले होली के दिन गाँव के ही राम-जानकी मंदिर में फाग उत्सव के दौरान इनामी डकैत मेम्बर सिंह ने राजपाल नामक एक युवक की गोली मार कर हत्या कर दी थी. जिसके बाद गाँव में कई सालों तक होली का त्यौहार नहीं मनाया गया.

ग्राम समाज के एक बैठक के बाद यह फैसला किया गया की गाँव की सभी महिलाये गाँव के सभी पुरुषों की गैरमौजूदगी में पूरे रस्मो-रीवाज के साथ होली के इस उत्सव को मनाएंगी. बस उस दिन से इस गाँव में केवल महिलाये ही होली का त्यौहार मनाती है. सभी पुरुष इस दिन गाँव से बहार चले जाते है. इसी के साथ सभी महिलाएं इस त्यौहार को जमकर मनाती हैं और मंदिरों में जा कर दर्शन भी करती हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *