एक ऐसा मुर्गा जो अब बिकेगा ऑनलाइन, जानिए आखिर क्या खासियत है मुर्गे की

मध्य प्रदेश के झाबुआ सहित कुछ अन्य जिलों में मुर्गा की खास नस्ल पाई जाती है, जिसे कड़कनाथ के नाम से पहचाना जाता है. इस मुर्गा की खासियत है कि इसके मांस में बसा (फैट) कम होता है और प्रोटीन ज्यादा. अब यह मुर्गा आपको घर बैठे मिल सकेगा, क्योंकि इसके लिए सहकारिता विभाग ने ‘मध्यप्रदेश कड़कनाथ ऐप’ तैयार किया है.

कड़कनाथ मुर्गे की खास बात 

स्थानीय भाषा में कड़कनाथ को कालीमासी भी कहते हैं. क्योंकि इसका मांस, चोंच, जुबान, टांगे, चमड़ी आदि सब कुछ काला होता है. यह प्रोटीनयुक्त होता है और इसमें वसा नाममात्र रहता है. कहते हैं कि दिल और डायबिटीज के रोगियों के लिए कड़कनाथ बेहतरीन दवा है. इसके अलावा कड़कनाथ को सेक्स वर्धक भी माना जाता है. इसके अलावा इसमें विटामिन बी1, बी2, बी6 और बी12 भरपूर मात्रा में मिलता है. इतना ही नहीं इसका मांस खाने से आंखों की रोशनी भी बढ़ती है.

तीन तरह की प्रजाति होती है

कड़कनाथ मुर्गे की प्रजाति के तीन रूप हैं. पहला जेड ब्लैक, इसके पंख पूरी तरह काले होते हैं. दूसरा पेंसिल्ड, इस मुर्गे का आकार पेंसिल की तरह होता है. पेंसिड शेड मुर्गे के पंख पर नजर आते हैं. जबकि तीसरा आखिरी प्रजाति गोल्डन कड़कनाथ की होती है. इस मुर्गे के पंख पर गोल्ड छींटे दिखाई देती हैं.

कीमत भी चौंकाने वाली है

लजीज चिकन की वजह से कड़कनाथ मध्यप्रदेश के झाबुआ और धार इलाके में बहुतायत में पाया जाता है. जबकि छत्तीसगढ़, राजस्थान और गुजरात के कुछ हिस्सों में यह मिलता है. हालांकि इसकी मांग अब देश के कोने-कोने से आ रही है. कर्नाटक, हैदराबाद, उत्तर प्रदेश के लोग कड़कनाथ के चूजे लेना चाहते हैं. हालात यह है कि झाबुआ के कृषि विज्ञान केंद्र स्थित हैचरी में कड़कनाथ के चूजे लेने के लिए महीनों की वेटिंग चल रही है. इस प्रजाति के मुर्गी के अंडे काफी महंगे होते हैं. इसका एक अंडा करीब 50 रुपये में बिकता है जबिक एक कड़कनाथ मुर्गे की कीमत 900 से 1200 प्रतिकिलो रुपये तक होती है. जबकि मुर्गी की कीमत 3000 से लेकर 4000 के बीच होती है.

मध्यप्रदेश सरकार ने कड़कनाथ मोबाइल ऐप’ तैयार शुरू किया गया है. कड़कनाथ ऐप के माध्यम से कोई भी व्यक्ति कड़कनाथ मुर्गा खरीदने के लिए अनलाइन डिमांड कर सकता है. भविष्य में अनलाइन आर्डर के साथ होम डिलीवरी की भी सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *